प्यासा कौआ



 

एक दिन काकू कौआ आसमान में उड़ रहा था।उड़ते-उड़ते उसे बहुत तेज़ प्यास लगी । काकू कौए ने इधर- उधर देखा परन्तु उसे कहीं भी पानी नहीं मिला । वह बहुत थक गया । आखिर में उसे एक घड़ा दिखायी दिया।

 

                 काकू कौए ने देखा कि घड़े में बहुत थोड़ा सा पानी है। उसने पानी पीने की कोशिश की परन्तु उसकी चोंच पानी तक नहीं जा सकी। वह बहुत परेशान हो गयातभी काकू कौए को एक उपाय सूझा।

 

                  उसने अपने आस-पास से कंकड़ इकट्ठे किए और एक- एक करके अपनी चोंच से उठाकर घड़े में डाले जब तक कि पानी ऊपर नहीं आ गया। फिर काकू कौए ने पानी पी कर अपनी प्यास बुझाई ।

 

                   इस तरह काकू कौए ने अपनी सूझबूझ और मेहनत से अपनी प्यास बुझाई ।

 


 

Pyaasa kauvaa


eka dina kaau kauvaa aasamaan me u
a rahaa thaa.Uate-uate use bahuta tej pyāsa lagee. Kaaku kauve ne idhara- udhara dekha parantu use kahee bhi paani nahi milaa. Vah bahuta thak gayaa. akhira me use eka ghaaa dikhayi diyaa.

 

                  Kaaku kauve ne dekhaa ki ghae me bahuta thoraa saa paani hai. Usane paani peene ki kosis ki parantu usaki chonch paani taka nahi jaa saki. Vaha bahuta pareshan ho gayaa, tabhi kaaku kauve ko ek upaaya sujha.

 

                   Usane apane aasa-paasa se kankara ikaṭṭhe kiye aura eka- eka karake apani chonch se uhakara ghae me aale jaba taka ki paani uupar nahi aa gaya. Phira kaaku kauve ne paani pee kara apani pyaas bujhaaee                   

 

 Isa taraha kaaku kauve ne apanee sujhabujha  aura meh-nat se apani pyaas bujhaaee.

 


 

Return Back to Previous page

 

 

 

Additional information

.