पंचतंत्र की लोकप्रिय कहानी: बुद्धिमान बंदर

 


 

एक नदी के किनारे एक बहुत बड़ा पेड़ था। उस पर एक चम्पक नामक बंदर रहता था। उस पेड़ पर बड़े मीठे-रसीले फल लगते थे। चम्पक बंदर उन्हें भरपेट खाता और मौज उड़ाता था

एक दिन मगर नदी से निकलकर उस पेड़ के नीचे आया

मगर ने ऊपर बंदर को देखा ओर कहा, ‘‘मैं कालू मगर हूं। बड़ी दूर से आया हूं। खाने की तलाश में घूम रहा हूं।’’

चम्पक बन्दर ने कहा, ‘‘यहां पर खाने के िलए पेड़ पर ढेरों फल लगते हैं। चख कर देखो। अच्छे लगे तो और दूंगा। यह कहकर चम्पक बन्दर ने कुछ फल तोड़कर कालू मगर की तरफ फेंक दिए।

कालू मगर को वह फल मज़ेदार लगे।’’

चम्पक बन्दर ने और भी ढेर से फल गिरा दिए। कालू मगर उन्हें भीखागया और बोला, ‘‘कल फिर आऊंगा।’’

चम्पक बन्दर ने कहा, ‘‘क्यों नहीं!!  रोज आओ और जितने जी चाहे खाओ।’’

दूसरे दिन कालू मगर फिर आया। उसने भर पेट फल खाए और चम्पक बंदर के साथ गपशप करता रहा। चम्पक बंदर दोस्त पाकर बहुत खुश हुआ।

एक दिन कालू मगर ने कहा, ‘‘मैं अकेला नहीं हूं,। घर में मेरी पत्नी है। नदी के उस पार हमारा घर है।’’

चम्पक बंदर ने कहा, ‘‘तुमने पहले क्यों नहीं बताया कि तुम्हारी पत्नी है। मैं भाभी के लिए भी फल भेजता।’’

जब कालू मगर जाने लगा तो चम्पक बंदर ने उसकी पत्नी के लिए बहुत से पके हुए फल तोड़कर दे दिए।

उस दिन कालू मगर अपनी पत्नी के लिए चम्पक बंदर की यह भेंट ले गया।

कालू मगर की पत्नी को फल बहुत पसन्द आए। धीरे-धीरे चम्पक बंदर और कालू मगर में गहरी दोस्ती हो गई। कालू मगर रोज चम्पक बंदर से मिलने जाता। जी भरकर फल खाता और अपनी पत्नी के लिए भी ले जाता।  कालू मगर की पत्नी को फल खाना अच्छा लगता था।, वह  बड़ी चालाक थी। उसने मन में सोचा, ‘‘अगर वह बंदर रोज-रोज इतने मीठे फल खाता है तो उसका मांस कितना मीठा होगा। यदि वह मिल जाए तो कितना मज़ा आ जाए।’’  यह सोचकर उसने कालू मगर से कहा, ‘‘एक दिन तुम अपने दोस्त को घर ले आओ। मैं उससे मिलना चाहती हूं।’’

कालू मगर ने कहा, ‘‘नहीं, नहीं, यह कैसे हो सकता है? ’’ उसकी पत्नी ने कहा, ‘‘तुम उसको न्योता तो दो। कालू मगर चम्पक बंदर को न्योता नहीं देना चाहता था। परन्तु उसकी पत्नी रोज उससे पूछती कि बंदर कब आएगा। कालू मगर कोई न कोई बहाना बना देता। कालू मगर की पत्नी ने एक तरकीब सोची।

एक दिन उसने बीमारी का बहाना किया और ऐसे आंसू बहाने लगी मानो उसे बहुत दर्द हो रहा है। कालू मगर अपनी पत्नी की बीमारी से बहुत दुखी था। वह उसके पास बैठकर बोला, ‘‘बताओ मैं तुम्हारे लिए क्या करूं?’’

पत्नी बोली, ‘‘मैं बहुत बीमार हूं।  वैद्य ने  कहा  है कि जब तक मैं बंदर का हृदय नहीं खाऊंगी तब तक मैं ठीक नहीं हो सकूंगी।’’

‘‘बंदर का हृदय ?’’ कालू मगर ने आश्चर्य से पूछा।

मगर की पत्नी ने कराहते हुए कहा, ‘‘हां, बंदर का हृदय

कालू मगर ने दुखी होकर कहा, ‘‘यह भला कैसे हो सकता है? उसको भला मैं कैसे मार सकता हूं?’’

पत्नी ने कहा, ‘‘अच्छी बात है। अगर तुझको तुम्हारा दोस्त ज्यादा प्यारा है तो उसी के पास जाकर रहो। तुम तो चाहते ही हो कि मैं मर जाऊं।’’

कालू मगर संकट में पड़ गया। उसकी समझ में नहीं आया कि वह क्या करे। चम्पक बंदर का हृदय लाता है तो उसका प्यारा दोस्त मारा जाता है। नहीं लाता है तो उसकी पत्नी मर जाती है।

कु्छ  सोचकर वह चम्पक बंदर के पास गया। बंदर कालू मगर का रास्ता देख रहा था। उसने पूछा, ‘‘क्यों दोस्त, आज इतनी देर कैसे हो गई? सब कुशल तो है ना?’’

कालू मगर ने कहा-’’ मेरा और मेरी पत्नी का झगड़ा हो गया है। वह कहती है कि मैं तुम्हारा दोस्त नहीं हूं क्योंकि मैंने तुम्हें अपने घर नहीं बुलाया। वह तुमसे मिलना चाहती है। उसने कहा है कि मैं तुमको अपने साथ ले आऊं। अगर नहीं चलोगे तो वह मुझसे फिर झगड़ेगी।’’

चम्पक बन्दर ने हंसकर कहा, ‘‘बस इतनी-सी बात थी? मैं भी भाभी से मिलना चाहता हूं। पर मैं पानी में कैसे चलूंगा? मैं तो डूब जाऊंगा।’’

कालू मगर ने कहा, ‘‘उसकी चिंता मत करो। मैं तुमको अपनी पीठ पर बिठा कर ले जाऊंगा।’’ चम्पक बंदर राजी हो गया। वह पेड़ से उतरा और उछलकर मगर की पीठ पर सवार हो गया।

नदी के बीच में पहुंचकर कालू मगर पानी में डुबकी लगाने को था कि चम्पक बंदर डर गया और बोला, ‘‘क्या कर रहे हो भाई? डुबकी लगाई तो मैं डूब जाऊंगा।’’

कालू मगर ने कहा, ‘‘मैं तो डुबकी लगाऊंगा। मैं तुमको मारने ही तो लाया हूं।’’

यह सुनकर चम्पक बंदर संकट में पड़ गया। उसने पूछा, ‘क्यों भाई, ‘‘मुझे क्यों मारना चाहते हो? मैंने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है?’’

कालू मगर ने कहा, ‘‘मेरी पत्नी बीमार है। वैद्य ने उसका एक ही इलाज बताया है। यदि उसको बंदर का हृदय खिलाया जाए तो वह बच जाएगी। यहां और कोई बंदर नहीं है। मैं तुम्हारा ही हृदय अपनी पत्नी को खिलाऊंगा।’’

उसने सोचा कि अब केवल चालाकी से ही अपनी जान बचाई जा सकती है उसने कहा, ‘‘िमत्र! यह तुमने पहले ही क्यों नहीं बताया? मैं तो भाभी को बचाने केलिए खुशी-खुशी अपना हृदय दे देता। लेकिन  मेरा  हृदय  तो नदी किनारे पेड़ पर रखा है। तुमने पहले ही बता दिया होता तो मैं उसे साथ ले आता।’’

‘‘यह बात है?’’ कालू मगर बोला।

‘‘हां जल्दी वापस चलो। कहीं तुम्हारी पत्नी की बीमारी बढ़ न जाए।’’

कालू मगर वापस पेड़ की ओर वापस तैरने लगा और बड़ी तेजी से वहां पहुंच गया।  किनारे पहुंचते ही चम्पक बंदर छलांग मारकर पेड़ पर चढ़ गया। उसने हंस कर कालू मगर से कहा, ‘‘जाओ अपने घर लौट जाओ।  और अपनी पत्नी से कहना कि तुम दुनिया के सबसे बड़े मूर्ख हो। भला कहीं कोई अपना हृदय शरीर से अलग रख सकता है?’’

Moral: इस कहानी से शिक्षा मिलती है कि अनजान लोगों पर कभी भरोसा नहीं करना चाहिए। और  संकट  मे  अक्ल  से  काम  लेना  चािहए  

 


Ek nadi ke kinaare ek bhahut badeaa ped thaa. us par ek Champak naamak bandar rahtaa thaa. us ped par bade mithe-rasile fal lagate the. Champak bandar unhen bharpet khaataa aur mauj udaataa thaa

ek din magar nadi se nikalkar us ped ke niche aayaa

magar ne oopar bandar ko dekhaa or khahaa, ‘‘main Kaalu magar hun. bade dur se aayaa hun. khaane ki talaash me ghum rhaa hun.’’

Champak bandar ne khaa, ‘‘yahaan par khaane ke lile ped par dheron fal lagate hain. khakar dekho. achhchhe lage to aur dungaaa. yah kahkar Champak naamak ne kuch fal todekar Kaalu magar ki taraf fenk diye.

Kaalu magar ko vah fal mazedaar lage.’’

Champak bandar ne aur bhi dher se fal giraa de. Kaalu magar unhen bhi khaa gayaa aur bolaa, ‘‘kal fir aaoongaaa. ’’

Champak bandar ne khaa, ‘‘kyon nahi !!  roj aao aur jitne ji chaahe khaao.’’

dusre din Kaalu magar fir aayaa. usne bhar-pet fal khaaye aur Champak Bandar ke saath gap-shap kartaa rahaa. Champak Bandar dost paakar bhut khush huaa.

ek din Kaalu magar ne khaa, ‘‘main akelaa nahin hun ,. ghar me meri patni hai. nadi ke us paar hamaaraa ghar hai.’’

Champak bandar ne khaa, ‘‘tumne phle kyon nahin bataayaa ki tumhaari patni hai. main bhaabhi ke liye bhi fal bhejtaa.’’

jab Kaalu magar jaane lagaa to Champak bandar ne uski patni ke liye bhahut se pake hue fal tod kar de diye.

us din Kaalu magar apani patni ke liye Champak bandar ki yah bhent le gayaa.

Kaalu magar ki patni ko fal bhahut pasand aaye. dhire-dhire Champak bandar aur Kaalu magar men gahri dosti ho gai. Kaalu magar roj Champak bandar se milne jaataa. ji bharkar fal khaataa aur apani patni ke liye bhi le jaataa.

Kaalu magar ki ptni ko fl khaanaa akchaa lgataa thaa., vah badi chaalaak thi. usne man me sochaa, ‘‘agar vah bandar roj-roj itne mithe fal khaataa hai to uskaa maans kitnaa mithaa hogaa. yadi vah mil jaye to kitnaa majaa aa jaae.’’  yah soch-kar usne Kaalu magar se khahaa, ‘‘ek din tum apne dost ko ghar le aao. main us se milnaa chaahati hun.’’

Kaalu magar ne khaa, ‘‘nhin, nhin, yh kaise ho sktaa hai ?

uski patni ne khahaa, ‘‘tum usko nyotaa to do.

Kaalu magar Champak bandar ko nyotaa nahin denaa chaahtaa thaa. parantu uski patni roj us se puchhti ki bandar kab aaegaa. Kaalu magar koi n koi bhaahana banaa detaa. Kaalu magar ki patni ne ek tarkib soki.

ek din us ne bimaari kaa bhahanaa kiyaa aur aise aansu bhaahane lagi maano use bhahut dard ho rahaa hai. kaalu magar apani patni ki bimaari se bhahut dukhi thaa. vah uske paas baithkar bolaa, ‘‘bataao mai tumhaare liye kayaa karu ?’’

patni boli, ‘‘main bhahut bimaar hun.  vaidya ne khahaa hai ki jab tak main bandar kaa hriday nahin khaaoongi tab tak mai thik nahin ho sakungi.’’

‘‘bandar kaa hriday ?’’ Kaalu magar ne aashcharye se puchhaa.

magar ki patni ne kraahte hue kahaa, ‘‘haan, bandar kaa hriday “

Kaalu magar ne dukhi hokar khahaa, ‘‘yah bhalaa kaise ho saktaa hai ? usko bhalaa mai kaise maar saktaa hun ?’’

patni ne kahaa, ‘‘achhi baat hai. agar tujh ko tumhaaraa dost jyaadaa pyaaraa hai to usi ke paas jaakar raho. tum to chaahate hi ho ki mai mar jaaoon.’’

Kaalu magar sankat me pad gayaa. uski samajh me nahin aayaa ki vah kayaa kare. Champak bandar kaa hriday laataa hai to uskaa pyaaraa dost maaraa jaataa hai. nhin laataa hai to uski patni mar jaati hai.

kuch soch-kr vah Champak bandar ke paas gayaa. bandar Kaalu magar kaa raastaa dekh rahaa thaa. usne puchhaa, ‘‘kyon dost, aaj itni der kaise ho gai ? sab kushal to hai na.

Kaalu magar ne khaa -’’ meraa aur meri patni kaa jhagadaa ho gayaa hai. vah khahati hai ki main tumhaaraa dost nahin hun kyonki mainne tumhen apane ghar nahin bulaayaa. vah tumse milnaa chaahti hai. usne khaa hai ki main tumko apane saath le aaoon. agar nahin chaloge to vah mujhse fir jhgadeegi.’’

Champak bandar ne hanskar khahaa, ‘‘bas itni-si baat thi ? main bhi bhaabhi se milnaa chaahtaa hun. par main paani men kaise chalungaa ? main to dub jaaoongaa.’’

Kaalu magar ne khaa, ‘‘uski chintaa mat karo. main tumko apani pith par bithaa kar le jaaoongaa.’’ Champak bandar raaji ho gayaa. vah ped se utraa aur uchhal kar magar ki pith par svaar ho gayaa.

nadi ke bich me pahunch kar Kaalu magar paani me dubki lgaane ko thaa ki Champak bandar dar gayaa aur bolaa, ‘‘kyaa kar rahe ho bhaai ? dubki lagaai to mai dub jaaoongaa.’’

Kaalu magar ne khaa, ‘‘main to dubki lagaaoongaa. main tumko maarne hi to laya hoo. Yah sunkar Champak Bandar sankat me pad gayaa. usne puchhaa, ‘kyon bhaai, ‘‘mujhe kyon maarnaa chaahte ho ? mai-ne tumhaaraa kayaa bigaadaa hai ?’’

Kaalu magar ne kahaa, ‘‘meri patni bimaar hai. vaidya ne uskaa ek hi ilaaj bataayaa hai. yadi usko bandar kaa hriday khilaayaa jaaye to vah bach jaaegi. yahaan aur koi bandar nhin hai. main tumhaaraa hi hriday apni patni ko khilaaoongaa.’’

usne sochaa ki ab keval chaalaaki se hi apani jaan bachaai jaa sakti hai usne khahaa, ‘‘Mitr ! yah tumne pahle hi kyon nahin btaayaa? mai to bhaabhi ko bachaane ke liye khushi-khushi apanaa hriday de detaa. lekin meraa hriday  to nadi kinaare ped par rakhaa hai. tumne pahle hi bataa diyaa hotaa to main use saath le aataa.’’

‘‘yah baat hai ?’’ Kaalu magar bolaa.

‘‘haan jaldi vaapas chalo. kahin tumhaari patni ki bimaari badhe n jaae.’’

Kaalu magar vaaps ped ki or vaapas tairne lagaa aur badi teji se vahaa pahuch gayaa. kinaare pahuchte hi Champak bandar chhalaanga maar kar ped par chad gayaa. usne hans kar Kaalu magar se kahaa, ‘‘jaao apane ghar laut jaao. aur apani patni se kahnaa ki tum duniyaa ke sabse badee murkh ho. bhalaa kanhi koi apanaa hriday sharir  se alaga rakh sakataa hai?’’

Moral : is khaani se shiksaa milti hai ki anjaan logaon par kabhi bhrosaa nahin karnaa chaahiye. aur sankat me akal se kaam lena chahiye.


 

 

Return Back to Previous page

Additional information

.